Arz Kiya Hai! अर्ज़ किया है!

Shayari Arz kiya hai!

Here is a collection of some of my all-time favourite shayaris.
Hope you all enjoy it.

तुमसे अब कुछ रिश्ता ऐसा है, न नफरत है न, इश्क़ पहले जैसा है।
Tumse Ab Kuch Rishta Aisa Hai, Na Nafrat Hai Na Ishq Pehle Jaisa Hai.

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Anonymous

पा ना सकेंगे जिसको उम्र भर जुस्तजू आज भी उसी की है।
Paa sakenge na umar bhar jisko justuju aj bhi ussi ki hai

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Habib Jalib.

तुम्हारी याद के जब ज़ख्म भरने लगते हैं किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते है।
Tumhaari Yaad Ke Zakhm Bharne Lagte Hain,
Kisi Bahaane Tumhein Yaad Karne Lagte Hain.

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Faiz Ahmad Faiz.

“मिलना था इत्तिफ़ाक़ बिछड़ना नसीब था,
वो उतना दूर हो गया जितना क़रीब था.”
Milna tha ittefaq bicharna naseeb tha
wo itne dur ho gaya jitne qareeb tha.

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Anjum Rehbar.

“अगर वो पूछ ले हमसे के किस बात का ग़म है,
तो किस बात का ग़म है अगर वो पूछ ले हमसे ”.
Agar wo pooch le humse, Tumhe kis baat ka gham hai.
To phir kis baat ka gham hai, Agar wo pooch le humse…

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Jaun ela’yi.

“ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्र -ओ-क़रार ,
बे -करारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी तो न थी.”
Le gaya cheen ke kaun aaj tera sabr-o-qarar,
Beqarari tujhe ae dil kabhi aisi to na thi.

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Bahadur shah zafar.

“अब तेरी आरज़ू कहाँ मुझको,
मैं तेरी बात भी नहीं करता ”
Ab teri arzoo kahan mujhko,
Main teri baat bhi nahin karta.

Hindi/urdu shayari with birds background.
– Anonymous

“हम ने हे लौटने का इरादा नहीं किया ,
उस ने भी भूल जाने का वादा नहीं किया .”
Hum ne hi lautne ka irada nahin kiya,
Us ne bhi bhool jane ka vada nahin kiya…

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Parveen Shakir.

“रुखसत हुआ तो आँख मिला कर नहीं गया ,
वो क्यों गया है ये भी बता कर नहीं गया .”
Rukhsat hua toh aankh mila kar nahin gaya,
Woh kyun gaya hai ye bhi bata kar nahin gaya..

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Shahzad Ahmad.

कहां से लाऊं इतना सब्र तुम थोड़ा सा मिल क्यों नहीं जाते।
“Kaha’n se lau itna sabr,
Tum thoda sa mil kyu nahi jate”

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Na maloom

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो, न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाए।
“Ujale apni yaadon ke hamare saath rehne do,
Na jaane kis gali mein zindagi ki shaam ho jae.”

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Bashir badr.

जब रहना है तन्हा तो रोना कैसा, जो था ही नहीं अपना उसे खोना कैसा।
“Jab rehna hai tanha toh rona kaisa,
Jo tha hi nahi apna usse khona kaisa.”

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Na Maloom.

ये मुझे चैन क्यों नहीं पड़ता एक ही शख्स था जहां में क्या ?
“Ye mujhe chain kyu nahi padta,
Ek hi shaks tha jahan may kya.”

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Jaun ela’yi.

“सितारों से आगे जहाँ और भी है ,
अभी इश्क़ के इम्तिहान और भी हैं .”
“Sitar’on se aage jahan aur bhi hai,
Abhi ishq ke imtiha’n aur bhi hain.”

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Dr Allama iqbal.

मुझे छोड़कर वो खुश है तो शिकायत कैसी, अब मैं उन्हें खुश भी न देखूं तो मोहब्बत कैसी !
“Mujhe chhodkar wo khush hai toh shikayat kaisi,
Ab main unhe khush bhi na dekhu toh mohabbat kaesi.”

Hindi/urdu shayari with birds background.
-Na Maloom.

हर वक़्त का हंसना, तुझे बर्बाद न कर दे, तन्हाई के लम्हों में, कभी रो भी लिया कर।
Har waqt ka hansna tujhe barbaad na kar de.
Tanhai ke lamhon mein kabhi ro bhi liya kar.

-Mohsin Naqvi.

Published by Sulbha

Tea Sipper, Avid Reader, Traveller and a Blogger.

Leave a Reply

%d bloggers like this: